API Full From क्या है हिंदी में ? What is api full from

API Full From क्या है दोस्तों अगर आप एक Student या फिर Computer फिगर से है तो आपने एपीआई के बारे में जरुर सुना होगा दोस्तों अगर आप API full from नहीं जानते है या फिर आप API क्या है नहीं जानते है तो आप इस लेख को सुरु से लेकर आखरी तक जरुर पड़े आपको एपीआई का फुल फ्रॉम क्या है ( API Full From Meaning ) क्या है .

एपीआई क्या होती है और एपीआई कैसे काम करती करती और इसके क्या फायदे है इस पोस्ट में मैंने बहोत बिस्तार से आपको बताया है तो चलिए सुरु करते है आपको सब जानकरी देते है .

API Full From क्या है हिंदी में  What is api full from

दोस्तों सबसे पहले हम बात करते है की API की full from क्या है तो दोस्तों एपीआई की फुल फ्रॉम है Application Programming Interface दोस्तों आप इसके नाम से ही समझ गए होंगे की एपीआई मतलब Application को program करने वाला system दोस्तों ये एक ऐसा Software code होता है .

जो अलग software के साथ Communication बनता है दोस्तों आज के समय में हम अपने Mobile और Computer से बहोत सारे website और बहोत सारे application और बहोत सारे software का यूज करते है और उसमे से बहोत से software या application ऐसी होती जो एपीआई के माध्यम से एक दुसरे से Connect रहती है .

API Full From क्या है (What is API Full From)

दोस्तों आपने बहोत बार देखा होगा जब आप किसी Application को अपने मोबाइल में इनस्टॉल करते है और उसे ओपन करते है तो आपके सामने एक sing-up home ओपन होता है और उस sing up के साथ ही कुछ बटन दिखाई देते है .

जैसे login with google और login with Facebook दोस्तों अगर आप इनमे से किसी एक भी बटन पर क्लिक करते है मान लीजिये आप login with Facebook पर क्लिक करते है तो दोस्तों एक क्लिक के साथ में ही आप उस application में रजिस्टर भी हो जाते हो और लॉग इन भी हो जाते हो .

तो दोस्तों अब आप सोच रहे होंगे की ऐसा कैसे हो पाता है क्योकि वो application अलग software है और google एक अलग software है और दोनों अलग अलग कम्पनी भी है और ये कैसे हो पाया तो दोस्तों ये सब हो पाया API के मदद से .

तो दोस्तों होता क्या है facebook है या कोई अदर software है तो उसने अपना एक API Key बनाया है और उस एपीआई कीय को या उस sort code को उस एप्लीकेशन के ओनर को दे दिया और उस एप्लीकेशन के ओनर ने क्या किया उस ओनर ने उस कोड को लिया और अपने एप्लीकेशन में इन्स्टर कर दिया .

अब हुआ क्या की उस एप्लीकेशन के सर्वर का या google या फिर facebook सर्वर के बिच में एक commutation बन गया अब गूगल ने उसे प्रमिसन दे दी की आप इस api के माध्यम से किन – किन चीजो को एक्सेस कर पाएंगे अगर google ने उसे प्रमिसन दिया की आप उस यूजर के Name और Date of Birth और Email id ही एक्सेस कर पायेंगे .

API को उदाहरण में समझते है (Understand api in the example)

तो वो उतना ही कर पायेगा दोस्तो ठीक उसी तहर से आप मान लो की अगर आप किसी पीजी में रह रहे है तो आपके पास उस घर की चाफी तो है पर दोस्तों ऐसा नहीं की आप उस घर को उस घर के सामान को अपनी मर्जी से यूज करते है और उसके साथ छेड़खानी करते है .

आपकी एक लिमेतेसन है आप उतना ही उन सामान को यूज कर सकते है तो दोस्तों ठीक उसी तरह से जब भी कोई software या program अपना api key किसी दुसरे program को देता है तो उसमे वो प्रमिसन भी देता है लिमिटेसन भी बाथ देता है .

चलिए दोस्तों इसे एक उदाहरण लेके समझते है दोस्तों मान लेते है की आपने किसी भी मोबाइल का रिचार्ज किया वो भी paytm से और आपका sim जिओ रिलाइंस का है तो आपने paytm से रिचार्ज किया लेकिन वो जिओ रिलाइंस में कैसे हुआ तो इसमे जिओ रिलाइंस ने अपना एक api key बनाया और paytm को दे दिया जिसके मदद से ये रिचार्ज हुआ है .

API काम कैसे करता है (How does the api work)

दोस्तों चलिए api को हम एक और उदाहरण लेके समझते है दोस्तों मान लो आप एक रेस्टोरेंट में गए है और आपको खाना खाना था और आपके सामने वेटर आया और वेटर को आपने खाने का ऑडर दिया अब वो वेटर किचन में गया किचन में जाके वही ऑडर वो cook को बताया जो खाना बना रहा था .

अब कुक ने थोड़ी देर बाद खाना तैयार कर दिया फिर से वेटर को बुलाया की खाना तैयार है अब वेटर खाना लेके आपके सामने आ गया तो दोस्तों इस केस में आपको खाना खाना था और खाना आपको मिलाना था किचन से यानी की cook ने आपको खाना देना था पर दोस्तों इस केस में सारा api का काम उस वेटर ने किया यानी की वेटर ने आपके और cook के बिच में communication बनाया .

दोस्तों आसान भाषा में कहे api दो या दो से अधिक application या software के बिच में communication बनता है .

API के फायदे (Benefits of api) API Full From

दोस्तों api के बहोत सारे फायदे है तो सबसे पहला फायदा time seving का जैसे दोस्तों मैंने आपको अभी ऊपर बताया की आपने paytm से रिचार्ज करवाया जिओ रिलाइंस का तो दोस्तों api के मदद से आपका रिचार्ज तुरंत हो गया पर दोस्तों अगर api नहीं होती तो क्या होता तो आप कही दुकान पर रिचार्ज करवाते और आपका समय बर्बाद होता .

API सुरक्षित है की नही (Whether the API is safe or not)

दोस्तों आपको बता दू की एपीआई सुरक्षित है या नहीं तो दोस्तों एपीआई हमारी डाटा सर्वर तक ले जाता है लेकिन उसे जो प्रमिसन दिया जाता है सिर्फ एपीआई हमारी डाटा को चेक कर सकता है तो आप समझ गए होंगे की एपीआई सुरक्षित है और एपीआई को बहोत से बड़े बड़े कम्पनी इस्तेमाल भी करते है .

API कितने प्रकार की होती है (What is the type of API)

दोस्तों आपको बता दू की एपीआई पुरे 4 प्रकार के होते है ?

  1. रिसोर्स ओरिएन्टेड 
  2. ऑब्जेक्ट ओरिएन्टेड 
  3. सर्विस ओरिएन्टेड 
  4. प्रोसीज़रल

FaQ

आपने क्या शिखा

दोस्तों उम्मीद करेंगे की आपको इस पोस्ट में What is API Full From,API Full From क्या है हिंदी में,एपीआई क्या है सब जानकरी मिल गई होगी अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा होगा तो मुझे comment करके जरुर बताये और अपने दोस्तों में शेयर भी करे .

Leave a Comment